बिहार चुनाव: सबसे पहले आएगा साहेबपुर कमाल का रिजल्ट, सबसे अंत में बेगूसराय विधानसभा का

बेगूसराय। दस नवम्बर को होने वाले मतगणना की सभी प्रशासनिक तैयारी पूरी कर ली गई है। बेगूसराय जिला के सात विधानसभा क्षेत्रों के लिए तीन जगहों पर मतगणना केंद्र बनाए गए हैं। जिला मुख्यालय में पांच विधानसभा क्षेत्र की मतगणना होगी जबकि दो विधानसभा क्षेत्र की मतगणना बरौनी में होगी।

ईवीएम से प्राप्त मतों की गिनती के लिए विधानसभा वार 14 मतगणना टेबल बनाया गया है। जबकि सेवा मत एवं पोस्टल बैलट मतपत्रों की गिनती के लिए तीन टेबल की व्यवस्था की गई है। मतगणना के अंतिम चरण के बाद विधानसभा वार पांच मतदान केंद्रों के वीवीपैट पेपर स्लिप की भी गिनती की जाएगी, इसके लिए आवश्यक तैयारी की गई है।

हालांकि सारी व्यवस्था के बीच इस वर्ष लोगों को परिणाम के लिए लंबा इंतजार करना होगा और शाम पांच बजे से पहले जिले के किसी भी विधानसभा क्षेत्र की मतगणना पूरी नहीं होगी। यानी पांच बजे के बाद ही अंतिम परिणाम सामने आएंगे। कोरोना के कारण सभी जगहों पर डेढ़ गुणा से अधिक मतदान केंद्र बनाए गए थे, जिसके कारण मतगणना में देर होगी। सबसे पहले साहेबपुर कमाल विधानसभा क्षेत्र का परिणाम आएगा। उसके बाद क्रमशः चेरिया बरियारपुर, बखरी, तेघड़ा, बछवाड़ा, मटिहानी के बाद अंतिम में बेगूसराय विधानसभा क्षेत्र का परिणाम आने की संभावना है।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिला पदाधिकारी अरविन्द कुमार वर्मा ने सोमवार को बताया कि सभी टेबल पर मतगणना पर्यवेक्षक, मतगणना सहायक और माइक्रो प्रेक्षक की नियुक्ति की गई है। निर्वाचन आयोग के प्रेक्षक द्वारा प्रत्येक राउंड में दो ईवीएम की रैंडम जांच किया जाएगा। विधानसभा बार वज्रगृह के प्रभारी पदाधिकारी मतगणना कक्ष तक कंट्रोल यूनिट पहुंचाने की व्यवस्था करेंगे, इसकी जिम्मेवारी निर्वाचन पदाधिकारी को दी गई है।

चिन्हित कर्मियों को प्रेक्षक की उपस्थिति में मंगलवार को सुबह पांच बजे कारगिल विजय सभा भवन में टेबल आवंटित किया जाएगा। मतगणना के दिन सुबह 7:59 बजे तक प्राप्त पोस्टल बैलट की गिनती की जाएगी और पूरी प्रक्रिया का वीडियोग्राफी किया जाएगा। नियुक्त किए गए पर्यवेक्षक को मोबाइल के साथ मतगणना कक्ष में आना है, उन्हीं के मोबाइल पर प्राप्त ओटीपी से लॉगइन कर डाक मतपत्रों की स्कैनिंग की जाएगी। सभी विधानसभा क्षेत्र में तीन-तीन सहायक निर्वाची पदाधिकारी को भी इस कार्य में लगाया गया है।

प्रत्येक राउंड की मतगणना के बाद ईवीएम, वीवीपैट, स्टैचुरी एवं ननस्टैचुरी का रीसिलिंग कर दिया जाएगा, इसकी पूरी जिम्मेवारी निर्वाचित पदाधिकारी को दी गई है। मतगणना स्थल पर को पूरी तरह से सीसीटीवी कैमरे से लैस कर दिया गया है, एक-एक कदम की रिकॉर्डिंग होगी, इसके अलावे पर्याप्त मात्रा में संख्या में वीडियो ग्राफर को भी लगाया गया है।

सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं तथा बगैर पास के किसी की भी एंट्री नहीं होगी। विधि व्यवस्था संधारण के लिए व्यापक पैमाने पर तैयारी की गई है तथा जगह-जगह दंडाधिकारी के साथ पुलिस बल को तैनात किया गया है। सिविल सर्जन को आवश्यक दवाई एवं एंबुलेंस के साथ मतगणना स्थल पर उपलब्ध रहने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही मतगणना कक्ष एवं परिसर का समय-समय पर सैनिटाइजेशन कराने की भी तैयारी की गई है।