समाजवाद पर की गयी टिप्पणी पर मुख्यमंत्री से इस्तीफे की मांग : सपा

इलाहाबाद। समाजवादी पार्टी (सपा) ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा समाजवाद पर की गयी टिप्पणी को असंवैधानिक बताते हुए आज उनसे नैतिकता के आधार पर पद से इस्तीफा देने की मांग की है। फूलपुर संसदीय क्षेत्र से समाजवादी पार्टी (सपा) सांसद नागेन्द्र प्रताप सिंह पटेल ने श्री योगी द्वारा समाजवाद पर टिप्पणी को लेकर पलटवार करते हुए उनसे नैतिकता के आधार पर देश से माफी मांगने और पद से त्यागपत्र देने की मांग की। उन्होंने कहा कि समाजवादी शब्द संविधान की मूल भावना में दर्ज है।

पटेल ने कहा कि समाजवाद पर अनर्गल बयान देना प्रदेश के मुखिया की सोच को दर्शाता है, इसके लिए उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए और नैतिकता के आधार पर मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्होंने कहा कि समाजवाद का लक्ष्य सिर्फ गरीबी या असमानता मिटाना नहीं बल्कि चरित्र निर्माण तथा व्यक्ति में सुधार भी लाना है।

उन्होंने कहा कि समाजवाद पर टिप्पणी करना सामन्तवादी मानसिकता का परिचायक है। अभी तक कुछ लोगों से चिढ़ने वाले मुख्यमंत्री अब समाजवाद से भी चिढ़ने लग गये। यह हमारे लोकतंत्र का सबसे बड़ा दुर्भाग्य है कि संवैधानिक पद पर बैठा हुआ व्यक्ति करोड़ों लोगों के जनभावनाओं को ठेस पहुँचाने वाली भाषा का इस्तेमाल करे।

पटेल ने कहा कि योगी जिस रामराज्य की बात करना चाहते है वही समाजवाद है। राम केवल चरित्र हो सकते है यह उनकी सोच है जबकि देशवासी समाजवादी राम को केवल भारतीय ही नहीं बल्कि वैश्विक चरित्र मानते है। महान और पवित्र कार्य करने के लिए चरित्रबल का होना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि जनता जागरूक हो गयी है। उसे कोरे आश्वासनों की नहीं बल्कि उन्हें धरातल पर साकार होते देखना चाहती है।

फूलपुर और गोरखपुर उपचुनाव में जीत को साामाजिक एकता एवं समरता की जीत बताते हुए उन्होंने कहा कि क्षेत्र की जनता ने साम्प्रदायिक एवं विघटनकारी ताकतों को मुंहतोड़ जवाब दिया है। उन्होंने भाजपा पर जातिवाद को बढावा देकर सामाजिक ढांचे को कमजोर करने का आरोप लगाते हुए कहा कि केन्द्र एवं प्रदेश की सरकारों ने जनता को धोखा दिया है, जिसे जनता अब समझ चुकी है और अब वह इनके झांसे में आने वाली नहीं है।

समाजवादी सरकार में किसी के साथ भेदभाव नहीं किया गया और उसकी विकास योजना में सबका ध्यान रखा गया था। पटेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं योगी सरकार को आम आदमी की समस्याओं के निराकरण में नाकाम और उनकी नीतियों को जन विरोधी बताया। उन्होंने 2019 के आमचुनाव में भाजपा का पूरी तरह से सफाया हो जाने का दावा करते हुए कहा कि संविधान की मूल भावना के साथ खिलवाड़ करने वालों को जनता माफ नहीं करेगी।