एससी-एसटी एक्ट: भारत बंद के दौरान यूपी में 1 की मौत और 100 से अधिक घायल

मेरठ । एससी-एसटी एक्ट में बदलाव के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ सोमवार को प्रदेश में बंद ने हिंसात्मक रूप ले लिया। प्रदर्शनकारियों ने कई जिलों में वाहनों को आग के हवाले कर पुलिस पर पथराव किया। एक पुलिस चौकी भी फूंक दी गई। कई जगह ट्रेनों को भी रोका गया। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के चार जिलों मेरठ, आगरा, हापुड़ और मुजफ्फरनगर में तो हालात इतने बेकाबू हो गए कि दोपहर बाद चार कंपनी आरएएफ और भेजनी पड़ी।

इस दौरान मुजफ्फरनगर में एक की मौत हो गई जबकि दो अन्य गंभीर हैं। लगभग 50 पुलिसकर्मी और इतने ही उपद्रवी घायल हुए हैं। यूपी पुलिस ने शाम को दावा किया कि अब स्थिति नियंत्रण में है। बसपा के पूर्व विधायक योगेश वर्मा समेत 448 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया गया है। संवेदनशील जिलों में आरएएफ और पीएसी लगाई गई है।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ सोमवार को सभी जिलों में दलितों के समूह विरोध के लिए नारेबाजी करते निकले लेकिन, पश्चिम यूपी के जिलों में कुछ देर बाद ही हिंसा शुरू हो गई। हापुड़ में दो दर्जन वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया और सैकड़ों वाहनों में तोडफ़ोड़ की गई। भीड़ ने हापुड़ विधायक विजयपाल आढ़ती को खदेड़ लिया और उनकी गाड़ी का शीशा भी तोड़ डाला। इस दौरान गोलीबारी में तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। पथराव में एएसपी समेत 24 लोग घायल हो गए।

मेरठ और मुजफ्फरनगर में पथराव और गोलीबारी में पुलिसकर्मियों सहित 60 से ज्यादा लोग घायल हो गए। अराजक भीड़ ने चार घंटे तक मेरठ से रेल सेवा और बस सेवा को पूरी तरह से बाधित रखा। आधा दर्जन से अधिक बसों में आग लगा दी। राहगीरों के साथ मारपीट और महिलाओं की छेड़छाड़ और बदसलूकी की। शोभापुर पुलिस चौकी को आग के हवाले कर दिया। उपद्रवियों ने परिवार न्यायालय में आगजनी की कोशिश की। दोपहर बाद पुलिस ने बसपा नेता और पूर्व विधायक योगेश वर्मा समेत 200 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा। पुलिसकर्मियों समेत तकरीबन 50 लोग घायल हुए हैं।

गोली लगने से दो की हालत नाजुक है। मुजफ्फरनगर में झड़प में एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि पुलिसकर्मी समेत आधा दर्जन लोग घायल हुए। दो दर्जन स्थानों पर तोडफ़ोड़ हुई। रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों में पथराव और तोडफ़ोड़ हुई। सहारनपुर में भी दिल्ली-यमुनोत्री हाईवे पर जाम लगाकर पुलिस की गाडिय़ों को भी निशाना बनाया। बिजनौर में कई स्थानों पर दुकानों में तोडफ़ोड़ की गई। महिला से बदसलूकी की। बुलंदशहर और शामली में हाईवे जाम रखा।

गाजियाबाद में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की मोटरसाइकिल को आग के हवाले कर दिया। उपद्रवियों ने ट्रेनें रोकीं और पुलिसकर्मियों की पिटाई भी कर दी। ग्र्रेटर नोएडा में दनकौर व परीचौक पर जाम लगा दिया, जिससे काफी देर तक यातायात ठप रहा। आगरा में प्रदर्शनकारियों ने सुबह पहले भाजपा के महानगर अध्यक्ष विजय शिवहरे को उनके होटल में बंधक बना लिया। पुलिस ने हवाई फायङ्क्षरग और लाठीचार्ज करते हुए प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने कलेक्ट्रेट की घेराबंदी कर ली। यातायात बंद कर दिया।

बरेली मंडल के बरेली, पीलीभीत, बदायूं, शाहजहांपुर में जगह-जगह प्रदर्शन का दौर चला। शाहजहांपुर में ट्रेन सेवा एक घंटे तक बाधित रखा। पीलीभीत, बदायूं में बंद का मिला-जुला असर रहा। पुलिस ने कई लोगों को हिरासत में लिया है। अलीगढ़ मंडल के अलीगढ़ और हाथरस जिले में कई जगह जुलूस निकाले गए और ट्रेन रोकी गईं। इस दौरान हाथरस में पुलिस ने लाठीचार्ज कर 13 लोगों को हिरासत में लिया है। अलीगढ़ में तीन घंटे तक ट्रेन सेवा को बाधित रखा। स्टेशन पर जीआरपी के पूछताछ केंद्र में भी तोडफ़ोड़ की गई। हाथरस में पुलिस ने 13 लोगों को हिरासत में ले लिया।

पूर्वांचल में जगह-जगह प्रदर्शन किए गए। गोरखपुर में प्रदर्शनकारियों एटीएम में तोडफ़ोड़ कर दी। दुकान बंद न करने पर मारपीट की। पुलिस ने 16 लोगों को हिरासत में लिया है। तोडफ़ोड़ के दौरान एक प्रदर्शनकारी घायल हो गया। बलिया में रेल चक्काजाम होने से ट्रेनों का परिचालन प्रभावित रहा। हाईवे पर भी जाम लगाया। दुकानें बंद कराने के साथ तोडफ़ोड़ की गई। वाराणसी में छात्र-छात्राओं ने जुलूस निकाल प्रदर्शन किया। मऊ में जगह-जगह चक्काजाम, प्रदर्शन किया गया। जबरदस्ती दुकानें बंद कराईं। कई दुकानों में तोडफ़ोड़ की भी गई। सोनभद्र में भी प्रदर्शन किए गए