श्रीराम की नीति है- “भय बिनु होइ न प्रीति”

आज प्रधानमंत्री मोदी जी नहीं हिन्दू ह्रदय सम्राट मोदी जी ने वो सब कुछ कह दिया जो सुनने के लिए 2014 के बाद से करोड़ों देशवासियों के कान तरस रहे थे। आज देश मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान “श्री रामजी” की पर भव्य मंदिर निर्माण के ऐतिहासिक शिलान्यास समारोह के अवसर पर समस्त राम भक्तों को मंगलमय हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई सन्देश दे रहा है। राम की भावनाओ में बह चले देश वासियों अधर्मियों को संदेश भी दिया पीएम मोदी कहते है – श्रीराम की नीति है- “भय बिनु होइ न प्रीति” अर्थात आधुनिकता के इस परिदृश्य में जब कि लोकान्तरण दृष्टिगोचर है, यही मूल मन्त्र हमारे राष्ट्र हेतू रक्षा कवच समान है।

इसका अपने आप में ही बहुत गूढ़ अर्थ हो जाता है जब मोदी जी यह वाक्य बोल रहे हो। आगे कहते है पीएम मोदी – “इसलिए हमारा देश जितना ताकतवर होगा, उतनी ही प्रीति और शांति भी बनी रहेगी। यही नीति और रीति सदियों से भारत का मार्गदर्शन करती रही है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने इन्हीं सूत्रों और मंत्रों के आलोक में रामराज्य का सपना देखा था