“भारत में आपदा प्रबंधन में एनपीडीआरआर की भूमिका” पर स्लोगन प्रतियोगिता आज से शुरू

“भारत में आपदा प्रबंधन में एनपीडीआरआर की भूमिका” पर ऑनलाइन स्लोगन प्रतियोगिता आज से शुरू हो गई है। स्लोगन प्रतियोगिता में सबसे अच्छी प्रविष्टि को 25,000 रुपये का नकद पुरस्कार और प्रमाण पत्र दिया जाएगा।

इस स्लोगन प्रतियोगिता में केवल भारत के नागरिक ही हिस्सा ले सकते हैं। इसके लिए 17 अप्रैल, 2017 शाम 5 बजे तक ईमेल के जरिए प्रविष्टियां भेजी जा सकती हैं। 17 अप्रैल, 2017 शाम 5 बजे के बाद कोई प्रविष्टि स्वीकार नहीं की जाएगी। अपनी प्रविष्टियां npdrr.india-mha@nic.in पर ईमेल करें और साथ ही कॉन्टेक्ट नंबर भी लिखें।

स्लोगन हिंदी या अंग्रेजी, दस शब्दों से अधिक नहीं होना चाहिए।

जजों का एक पैनल स्लोगन प्रतियोगिता में आने वाली सर्वश्रेष्ठ प्रविष्टि का चयन करेगा। जजों के पैनल में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) के चार सदस्यों होंगे। सर्वश्रेष्ठ प्रविष्टि को निम्न पुरस्कारों से सम्मानित किया जाएगा:

– गृह राज्य मंत्री से 25 हजार रुपये नकद पुरस्कार एवं एक प्रमाणपत्र

– एनपीडीआरआर की दूसरी बैठक में भाग लेने के लिए आने-जाने का इकॉनामी क्लास का टिकट

– एनपीडीआरआर की दूसरी बैठक में हिस्सा लेने और पुरस्कार विजेता प्रविष्टि पर अपने विचार व्यक्त करने के लिए

दिल्ली में एनपीडीआरआर के दौरान दिल्ली में दो दिन और दो रातों के लिए ठहरने की जगह

आपदा जोखिम में कमी संबंधी राष्‍ट्रीय मंच (एनपीडीआरआर) की दूसरी बैठक 24-25 अप्रैल, 2017 को नई दिल्ली में होगी। इस बैठक की थीम ‘डिजास्टर रिस्क रिडक्शन फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट: मेकिंग इंडिया रेसिलिएंट बाई 2030’ होगी। इसमें ”नेशनल पर्सपेक्टिव ऑन डिजास्टर रिस्क रिडक्शन: सेंडई एंड बियोंड” की थीम पर पूर्ण अधिवेशन के अतिरिक्त विशेष मंत्रालयी सत्र भी होगा।

यहां इन थीमों पर पांच तकनीकी सत्र भी होंगे – “अंडरस्टैंडिंग डिजास्टर रिस्क”, “स्ट्रेंथेनिंग डिजास्टर रिस्क गवर्नेंस टू मैनेज डिजास्टर रिस्क, “इन्वेस्टिंग इन डिजास्टर रिस्क रिडक्शन फॉर रेसिलेंस, “एनहेंसिंग डिजास्टर प्रीपेयर्डनेस फॉर इफेक्टिव रिस्पोंड एंड टू बिल्ड बैक बेटर इन रिकवरी, “रिहेबिलिशन एंड रीकंस्ट्रक्शन” और ”सेंडई फ्रेमवर्क फॉर डीआरआर: मोनिटरिंग”।