बिना अनुमति ध्‍वनि विस्‍तारक यंत्रों का उपयोग नहीं हो सकेगा, जिला दण्‍डाधिकारी द्वारा आदेश जारी
इस ख़बर को शेयर करें

गुना । कलेक्‍टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी कुमार पुरूषोत्‍तम ने कहा है कि भारत निर्वाचन आयोग की प्रेस विज्ञप्ति द्वारा गुना जिले की विधानसभा उप-निर्वाचन 2020 का कार्यक्रम घोषित किया जा चुका है। जिसके अनुसार सम्पूर्ण गुना जिले मे आदर्श आचरण संहिता प्रभावशील रहेगी।

उन्‍होंने म0प्र0 कोलाहल अधिनियम 1985 की धारा 18 के अन्तर्गत सम्पूर्ण जिले की सीमा को कोलाहल नियंत्रण क्षेत्र (लायसेंस जोन) घोषित करते हुए निर्वाचन के परिप्रेक्ष्य में सभाएँ, जुलूस एवं रैली आयोजित करने तथा ऐसी सभा, जुलूस एवं रैली में लाउडस्पीकर के उपयोग करने की अनुमति देने हेतु अनुविभागीय दण्डाधिकारी को अपने-अपने क्षेत्राधिकार के अन्तर्गत प्राधिकृत किया है।

जारी आदेश में उन्‍होंने सभाओं की अनुमति में दिनांक, सभा का स्थल तथा समय का स्पष्ट उल्लेख किया जाने, सभा के लिए लाउडस्पीकर का उपयोग धीमी आवाज में रात्रि 10.00 बजे तक करने के निर्देश जाने तथा म0प्र0 कोलाहल अधिनियम 1985 के समस्त प्रावधानों का पालन किये जाने हेतु निर्देशित किया है।

उन्‍होंने जुलूस एवं रैली की अनुमति में जुलूस किस समय व किस स्थान से प्रारंभ होगा एवं कौन-कौन से मार्ग से गुजरेगा तथा किस स्थान व समय पर समाप्त होगा, इसका स्पष्ट उल्लेख किये जाने के निर्देश दिए हैं। उन्‍होंने सर्वसंबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया है कि सभा एवं जुलूस की अनुमति देते समय इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि दो राजनैतिक दलों को एक ही समय में एक ही स्थान पर सभा की अनुमति नही दी जाये। राजनैतिक दलों की सभाओं के बीच कम से कम तीन घंटे का अन्तर रखा जाए जिससे कोई अप्रिय स्थिति निर्मित नही हो।

उन्‍होंने निर्देशित किया है कि अनुविभागीय अधिकारी राजनैतिक दलों से आवेदन प्राप्त होते ही उस पर प्राप्ति का समय व दिनांक तत्काल दर्ज करें तथा जिस राजनैतिक दल द्वारा पहले आवेदन पत्र दिया गया है,उसे पहले अनुमति देने बाबत् विशेष ध्यान रखा जाए। इस हेतु अनुविभागीय दण्डाधिकारी अपने कार्यालय में पंजी संधारित करेंगे, जिसमें प्राप्त होने वाले आवेदन का दिनांक व समय तथा आवेदक का नाम व संबंधित पार्टी के नाम की प्रविष्टि की जाए।

सभा, रैली, जुलूस के स्थान समय तथा दिनांक का पूर्ण विवरण अंकित किया जाए तथा उसी के सामने संबंधित पार्टी की सभा/जुलूस हेतु दी गई अनुमति का दिनांक स्थान व समय भी दर्ज किये जाने हेतु उन्‍होंने निर्देशित किया गया है।
उन्‍होंने निर्देशित किया है कि अनुविभागीय दण्डाधिकारी दिनांकवार पंजी का संधारण करें तथा प्रत्येक दिनांक के लिए एक पृष्ठ पूर्व से आवंटित कर दिया जाए। जिस दिनांक को अनुमति जारी किए जाने से पूर्व उस खाता पृष्ठ को देख लें कि पूर्व से उस दिनांक को उसी समय व स्थान के लिए कोई जारी तो नही है।

उन्‍होंने निर्देशित किया है कि अनुमति जारी करते समय ही दिनांकवार ऐसी अनुमति का इन्द्राज दोनों पंजियों में करें। जिससे किसी भी प्रकार से अन्य किसी पार्टी को उसी समय व स्थान पर सभा/जुलूस आयोजित करने संबंधी अनुमति न दी जा सके। एक ही मार्ग पर एक ही समय पर दो विभिन्न दल/उम्मीदवारों के जुलूस को अनुमति जारी नही की जाए।