श्रीलंका: बाढ़ से 150 से अधिक लोगों की गई जान

श्रीलंका में बाढ़ और भूस्खलन से मरने वालों की संख्या 150 से ऊपर पहुंची, राहत अभियान जारी। भारतीय नौसेना के दो और जहाज श्रीलंका में बाढ़ प्रभावित लोगों लिए राहत सामग्री लेकर पहुंचे। मौसम विभाग ने दक्षिण पश्चिम में फिर से बारिश की जताई संभावना।
श्रीलंका में आयी भीषण बाढ़ के दौरान सहायता के लिए भारत ने राहत सामग्री भेजी है और बचावकर्मी वहां राहत कार्यों में जुट गए हैं। अभी तक बाढ़ में करीब 151 लोगों की मौत हुई है और करीब पांच लाख लोग विस्थापित हुए हैं। वहीं 90 से अधिक लोग लापता हैं।

बाढ़ से सबसे ज्यादा लोग दक्षिण-पश्चिमी क्षेत्र में रत्नापुरा प्रभावित है। तीन लाख पचास हजार से ज्यादा लोगों को बिजली नहीं मिल रही है। थल सेना के 1000 जवानों सहित श्रीलंका की तीनों सेनाओं के जवान राहत एवं बचाव अभियान में जुटे हैं।

भारतीय नौसेना के कुल तीन जहाज श्रीलंका में बाढ़ प्रभावित लोगों लिए राहत सामग्री के साथ पहुंच गये हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी श्रीलंका को हर संभव सहायता का निर्देश दिया है। गौरतलब है कि वर्ष 2003 के बाद यह द्वीपीय राष्ट्र में आयी सबसे भीषण बाढ़ है।

आपदा प्रबंधन केन्द्र ने केलानी नदी के किनारे रहने वाले लोगों को तुरंत सुरक्षित स्थान पर जाने की चेतावनी दी है। सरकार ने कहा कि 14 जिलों में 52,603 परिवारों के कम से कम 2,00,382 लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। 2,937 परिवारों के 12,007 लोगों को 69 सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है।