केरल में आरएसएस कार्यकर्ताओं की हत्यायों पर केंद्र का कड़ा रुख

आरएसएस कार्यकर्ता राजेश की हत्या के मामले में केरल के राज्यपाल ने मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन को बुलाया और राज्य की ताजा स्थिति पर चर्चा की। मुख्यमंत्री ने राज्यपाल को बताया कि दोषियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। साथ ही उन्होंने बताया कि वह प्रदेश भाजपा प्रभारी और राज्य के आरएसएस प्रमुख से मुलाक़ात करेंगे। राज्यपाल से मुलाक़ात के बाद, उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की। इस बीच, केरल के डीजीपी लोकनाथ बेहरा ने भी राज्यपाल से मुलाक़ात की।

इससे पहले गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने केरल में ताजा राजनीतिक हिंसा के संबंध में राज्य मुख्यमंत्री पिनारी विजयन से बात की थी। गृह मंत्री ने राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति पर चिंता जताई और कहा कि यह लोकतंत्र में राजनीतिक हिंसा अस्वीकार्य है। उन्होंने राज्य में राजनीतिक हिंसा बंद होने और दोषियों को जल्द सजा मिलने की उम्मीद जतायी।

गौरतलब है कि शनिवार को एक आरएसएस कार्यकर्ता को तिरुवनंतपुरम के नजदीक कुछ लोगों ने पीट-पीट कर मार डाला था। पुलिस के अनुसार 34 वर्षीय राजेश के कत्ल के पीछे एक गैंग का हाथ है जिसका नेतृत्व एक हिस्ट्री शीटर कर रहा था। इस गैंग ने राजेश का बायां हाथ काट दिया था। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष कुमानाम राजाशेखरन ने आरोप लगाया है कि इस हमले के लिए कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया-मार्क्सिस्ट (सीपीआई-एम) जिम्मेदार है।

ज्ञात हो कि केरल में आरएसएस कार्यकर्ता राजेश की हत्या के मामले में भाजपा ने आज राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया है। भाजपा ने सीपीएम कार्यकर्ताओं पर हत्या का आरोप लगाया है। आरएसएस कार्यकर्ता पर चाकू से कई बार हमला किया गया जिसके बाद उसकी मौत हो गई। गौरतलब है कि केरल में आरएसएस कार्यकर्ताओं पर लगातार हमले हो रहे हैं।