रसोई गैस पर ग़रीबों को मिलने वाली सब्सिडी नहीं होगी ख़त्म

रसोई गैस सिलेंडर पर सब्सिडी को धीरे-धीरे ख़त्म करने का मुद्दा मंगलवार को संसद में उठा। विपक्ष ने इस मुद्दे पर खूब हंगामा किया और हंगामे के चलते राज्य सभा की कार्यवाही को कई बार स्थगित करना पड़ा। सरकार ने इस पर साफ कहा कि सब्सिडी ज़रूरतमंद लोगों के लिए है, इसे धीरे-धीरे ख़त्म करने का फ़ैसला यूपीए सरकार का है।

सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर की सब्सि़डी को धीरे-धीरे कम करके अगले साल मार्च में पूरी तरह समाप्त करने का मसला संसद के दोनों सदनों में उठा। राज्यसभा में तृणमूल कांग्रेस ने एलपीजी सब्सिडी का मामला उठाया और कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, बीएसपी और जेडीयू ने भी इसका समर्थन किया, जिससे सदन में भारी हंगाम हुआ। हंगामे के चलते भोजनवकाश से पहले राज्य सभा की कार्यवाही चार बार स्थगित हुई।

लोक सभा में भी शून्यकाल के दौरान विपक्षी सदस्यों ने हंगामा किया तथा इस मुद्दे पर सरकार द्वारा कोई जवाब नहीं मिलने पर सदन से बाहर चले गए। भारी हंगामे के बीच सत्ता पक्ष ने ये साफ कर दिया कि फैसला यूपीए सरकार के समय का है। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि सब्सिडी ग़रीबों के लिए है, सम्पन्न लोगों के लिए नहीं। सब्सिडी के पैसों का उपयोग विकास के काम में किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि महज तीन साल में सरकार ने सात करोड़ नए कनेक्शन दिए हैं।