पुलिस का दावा- जीभ काटने, रीढ़ की हड्डी तोड़ने और आंख फोड़ने की बात झूठी, आईजी बोले- पीड़िता ने दो बार बदले थे बयान
इस ख़बर को शेयर करें

हाथरस । 15 दिन जिंदगी-मौत से जूझने के बाद हाथरस की 19 साल की लड़की आखिरकार मौत का शिकार हो गई। शरीर के आधे हिस्से ने काम करना बंद कर दिया था तो उसे सोमवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया गया था। जहां उसकी देर रात मौत हो गई। परिवार वालों का आरोप है कि दुष्कर्म के बाद युवती की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी गई और उसकी जीभ भी काट दी गई थी। लेकिन हाथरस पुलिस ने इन सभी दावों को एक सिरे से खारिज कर दिया है। कहा गया कि सोशल मीडिया पर भ्रामक खबरें फैलाई जा रही हैं।

आईजी ने प्रकरण में रखी अपनी बात

आईजी अलीगढ़ पीयूष मोडिया ने कहा कि 14 सितंबर को सुबह 10:30 बजे पीड़ित के भाई ने थाने पर आकर हस्तलेख तहरीर दी थी। जिस पर मुकदमा पंजीकृत किया गया। वह घटना के एक घंटे बाद थाने आया था। उसने कहा कि जब उसकी बहन बाजरे के खेत में घास काट रही थी तो एक लड़के ने उसका गला दबाकर जान से मारने का प्रयास किया।

पीड़ित के भाई की तहरीर पर मामला दर्ज किया गया और उसके बाद डॉक्टरों ने बेहतर इलाज के लिए उसे हाथरस से अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज भेज दिया। उसके इलाज का हर संभव प्रयास किया गया। उसके कुछ दिन बाद जब विवेचक जब अपना बयान लेने पहुंचा तो पीड़ित ने छेड़खानी की बात कही। इसके बाद छेड़छाड़ की धाराओं में मुकदमा तरमीम कर दिया गया। उसके बाद क्षेत्राधिकारी पीड़ित के पास पहुंचे और उसका बयान दर्ज किया तो फिर तीन अन्य और लोगों के नाम बयान में दर्ज कराए।

उसके बाद शीघ्र कार्रवाई करते हुए चारों अभियुक्तों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। मेडिकल एग्जामिनेशन के समय जांच होने पर दुष्कर्म जैसा कुछ भी नहीं निकल कर आया और परसों सुबह पीड़ित के परिजनों ने दिल्ली स्थित सफदरगंज अस्पताल में उसको ले जाना चाहा और वहां इलाज कराने के लिए भर्ती कराया गया। लेकिन आज सुबह लगभग 3:00 बजे पीड़ित की मौत हो गई। उसके बाद कार्रवाई की जा रही है।

यह है पूरा मामला

हाथरस जिले के थाना चंदपा इलाके के एक गांव में 14 सितंबर को चार दबंग युवकों ने 19 साल की दलित युवती के साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया था। आरोप है कि वारदात के बाद आरोपियों ने पीड़ित की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी और उसकी जीभ भी काट ली थी। घटना के बाद पुलिस ने एक आरोपी को उसी दिन गिरफ्तार कर लिया था।

दो अन्य भी अलग अलग तारीखों में पकड़ गए। चौथे आरोपी को बीते शनिवार को गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं, युवती को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। लेकिन उसकी हालत देखते हुए उसे अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया था। जहां किशोरी के आधे शरीर के हिस्से ने पूरी तरह से काम करना बंद कर दिया। सोमवार को पीड़ित दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर की गई। लेकिन देर रात उसकी मौत हो गई।