अम्बियापुर ब्लाक क्षेत्र को दो अक्टूबर तक शौच से मुक्त कराने का लक्ष्य

#बदायूं। सम्पूर्ण #अम्बियापुरब्लाक क्षेत्र को दो अक्टूबर तक #ओडीएफ करा दिया जाएगा। #बिल्सी #विधानसभा क्षेत्र के विधायक पंडित आरके शर्मा एवं #ब्लाकप्रमुख विजेता यादव ने अपने ब्लाक क्षेत्र को #खुलेमेंशौच से मुक्त कराने का लक्ष्य स्वयं निर्धारित किया। मंच से घोषणा की कि निर्धारित अवधि तक ओडीएफ कराने के लिए हर सम्भव प्रयास किए जाएंगे। डीएम ने कहा कि यदि दो अक्टूबर तक पूरा ब्लाक खुले में शौच से आज़ाद हो जाएगा तो जनपद का यह पहला ओडीएफ ब्लाक होगा।

स्वच्छ भारत मिशन अन्तर्गत खुले में शौच से आजादी कार्यक्रम के तहत सोमवार को ब्लाक अम्बियापुर में जागरुकता कार्यक्रम आयोजित हुआ। विधायक बिल्सी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि आजादी के 70 वर्षां बाद भी खुले में शौच की कुप्रथा बरकरार है। अब प्रत्येक नागरिक को अपनी सोच बदलने की आवश्यकता है। सब मिलकर प्रयास करें तो कोई भी व्यक्ति खुले में शौच को नहीं जा सकेगा।

उन्होंने कहा कि महिलाएं घर की इज्ज़त होती हैं, इसलिए उनकी सुरक्षा प्रत्येक व्यक्ति का दायित्व है। वह खुले में शौच को न जाएं, इसलिए घर में शौचालय होना ज़रूर बनाएं। जिलाधिकारी अनिता श्रीवास्तव की अपेक्षानुसार ब्लाक प्रमुख ने अपने ब्लाक को ओडीएफ कराने का लक्ष्य दो अक्टूबर स्वयं निर्धारित किया है। बिल्सी विधायक ने भी ब्लाक प्रमुख के लक्ष्य निर्धारण पर अपनी सहमति जताते हुए ओडीएफ कराने का संकल्प लिया है।

जिलाधिकारी ने कहा कि स्कूलों में प्रार्थना के समय बच्चों को जागरुक किया जाए। बच्चे अपने अभिभावकों से शौचालय निर्माण की ज़िद करेंगे तो उन्हें शौचालय बनवाना ही होगा। जिन घरों में शौचालय बने हुए हैं, उन बच्चों की प्रशंसा के तौर पर प्रार्थना के समय तालियाँ बजवाकर प्रोत्साहित किया जाए।

डीएम ने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकत्री, आशा वर्कर्स, शिक्षा प्रेरकों, रोजगार सेवक को 25-25 शौचालय बनवाने का लक्ष्य दिया गया है। यह कर्मी आर्थिक रूप से सम्पन्न लोगों के शौचालय बनवाएंगे। जागरुक कर शौचालयों का निर्माण कराने वाले कर्मियों को प्रति शौचालय 150 रुपए पारिश्रमिक के रूप में दिए जाएंगे।

ब्लाक प्रमुख विजेता यादव ने कहा कि खुले में शौच की कुप्रथा से सबसे अधिक समस्याएं महिलाओं को ही होती हैं। इसलिए ब्लाक को ओडीएफ कराने में महिलाओं को आगे आकर प्रयास करना चाहिए। खुले में शौच के कारण शरीर अस्वस्थ्य होता है, बीमारियों से घिरा रहता है। बच्चे भी शारीरिक और मानसिक रूप से अस्वस्थ पैदा होते हैं।

जागरुकता कार्यक्रम में नगर मजिस्ट्रेट राजकुमार द्विवेदी, एसडीएम बिल्सी हरिशंकर लाल शुक्ला, जिला उद्यान अधिकारी/प्रभारी अम्बियापुर बीडीओ आरएन वर्मा, डीपीआरओ राजीव कुमार मौर्य सहित अन्य अधिकारी, ग्राम प्रधान, शिक्षकगण, आंगनबाड़ी कार्यकत्री, शिक्षा प्रेरक, आशा वर्कर्स, लेखपाल एवं सचिव आदि मौजूद रहे।