युवती का अपहरण कर दुष्कर्म करने वाले आरोपितों की जमानत निरस्त

इस ख़बर को शेयर करें:

अनूपपुर। द्वितीय अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेन्द्रीग्राम अविनाश शर्मा की न्यायालय ने युवती का अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपितों 44 वर्षीय मनोज सिंह पुत्र प्रेम सिंह गोंड और 38 वर्षीय लालू सिंह पुत्र प्रेम सिंह दोनों निवासी ग्राम रनईकापा थाना करनपठार द्वारा लगाये गये जमानत आवेदन को सहायक जिला अभियोजन अधिकारी शशि धुर्वे के विरोध करने पर निरस्त कर दी। आरोपितों के विरूद्ध थाना करनपठार में धारा 366 376 376डी 376(2)एन 370 342 344 506 भादवि के तहत अपराध दर्ज है।

मीडिया प्रभारी राकेश पाण्डेय ने शुक्रवार को बताया कि 01 जुलाई 2020 को पीडि़त युवती शाम को दुकान जा रही थी, उसी समय अभियुक्त लालू सिंह बोला कि उसे खेत तरफ उसकी भाभी बुला रही है। जब वह खेत तरफ जाने लगी तब अभियुक्त मनोज सिंह और लालू ने पकड़कर पिपरिया के जंगल में ले गये और बारी-बारी से बलात्कार किया। पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया था, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

आरोपितों ने जमानत आवेदन में कहा कि दोनों सगे भाई हैं और दोनों के बड़े-बड़े बच्चें हैं। उन्हें पिता की पुरानी रंजिश के कारण झूठा फंसाया गया है। पिता का स्वर्गवास हो गया है। यदि उन्हें जमानत नहीं दी गई तो उनके परिवार के सामने भरण पोषण का संकट खड़ा हो जायेगा। अभियोजन ने जमानत आवेदन का लिखित विरोध कर बताया कि आरोपितों ने अपहरण कर पीडि़ता के साथ दुष्कर्म जैसा जघन्यन अपराध किया, उन्हें कानून का कोई भय नहीं है, यह कृत्य अत्यंत गंभीर है। न्यायालय ने दोनो पक्षें को सुनने के बाद जमानत आवेदन निरस्त कर दिया।