मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर- देश के प्रख्यात चिकित्सालयों के चिकित्सक करेंगे इलाज

कटनी@ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गंभीर बीमारियों से पीडि़त व्यक्तियों को निःशुल्क स्वास्थ्य शिविरों का लाभ उठाने में मदद करने की प्रदेश वासियों से अपील की है। उन्होंने कहा है कि ये शिविर प्रत्येक जिला मुख्यालय में आयोजित किये जा रहे हैं। इनमें प्रदेश के साथ-साथ देश के प्रख्यात चिकित्सकों द्वारा उपचार किया जायेगा। इलाज का पूरा खर्च राज्य सरकार उठायेगी। शिविरों में हृदय रोग, क्षय रोग, कैंसर सहित जिला बीमारी सहायता योजना की सभी 20 बीमारी तथा बाल हृदय, श्रवण-बाधित एवं दृष्टि-बाधित आदि गंभीर बीमारियों का इलाज किया जायेगा।
गौरतलब है कि गरीबों को निःशुल्क स्वास्थ्य सुविधाएँ मुहैया करवाने के लिये राज्य सरकार कटिबद्ध है। अब गंभीर, असाध्य और जटिल बीमारियों के इलाज की सुविधा प्रदेश के नागरिकों तक पहुँचाने के लिये हर जिले में विशेष स्वास्थ्य शिविर आयोजित किये जा रहे हैं। शिविरों में विभागीय चिकित्सकों के अलावा निजी क्षेत्र के भी प्रख्यात चिकित्सक अपनी सेवाएँ देंगे। विशेषज्ञों ने भी शिविरों में अपनी सेवाएँ देने की सहमति दी है।शिविरों में विशेषज्ञ चिकित्सक जाँच करेंगे और राज्य शासन द्वारा इलाज के लिये आवश्यक राशि भी मौके पर स्वीकृत की जायेगी। मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की है कि अपने क्षेत्र के सभी गाँवों में इन शिविरों की सूचना दें और गंभीर बीमारियों से पीडि़त व्यक्तियों एवं बच्चों को इन शिविरों में आने के लिये प्रोत्साहित करें। यह प्रोत्साहन किसी गंभीर बीमारी से पीडि़त व्यक्ति एवं बच्चे को स्वास्थ्य का उपहार दे सकता है

गंभीर बीमारियों का होगा उपचार

मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविरों में राज्य बीमारी सहायता योजना में शामिल सभी बीमारियों का उपचार किया जायेगा – इसमें कैंसर सर्जरी,कीमोथेरेपी, रेडियोथेरेपी, रीनल सर्जरी एवं रीनल ट्रान्सप्लांटेशन, हिप ज्वाइंट रिप्लेसमेंट, घुटने का बदलना, सिर की चोट (जिसमें ऑपरेशन की आवश्यकता हो), स्पाईनल सर्जरी, रेटिनल डिटेचमेंट, प्रसवोत्तर जटिलताएँ, हृदय सर्जरी, वक्ष रोग शल्यक्रिया, ब्रेन सर्जरी, न्यूरो सर्जरी, एम.डी.आर. पेसमेकर वेसकुलर सर्जरी, कंजनाईटल मालफॉर्मेशन, एप्लास्टिक एनीमिया, बर्न एण्ड पोस्ट बर्न कॉन्ट्रेक्चर, क्रानिक रीनल डिसिसेज, बाँझपन शामिल हैं।
इसी तरह राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम में चिन्हित बीमारियाँ जैसे न्यूरल ट्यूब दोष, डाउनसिंड्रोम, फटा होंठ और तालूक्लेफ्ट पेलेट अलोन, टैलिफेस (क्लब फुट), डेवलपमेंटल डिस्प्लेसिया ऑफ द हिप, जन्मजात मोतियाबिंद, जन्मजात बधिरता, जन्मजात हृदयरोग, रेटिनोपैथी ऑफ प्रीमैच्युरिटी तथा बाल हृदय उपचार, बाल श्रवण उपचार एवं अन्य बीमारियों का समुचित उपचार किया जायेगा।

कटनी में 27 फरवरी को आयोजित होगा विशेष शिविर

राज्य शासन द्वारा आयोजित ये शिविर जिलेवार आयोजित होंगे। इसका कैलेंडर भी स्वस्थ्य विभाग द्वारा जारी किया गया है। इसके अनुसार ये विशेष चिकित्सा परिक्षण शिविर 27 फरवरी को कटनी में आयोजित होगा। शिविरों में चिन्हित मरीजों का देश के प्रख्यात चिकित्सालयों में उपचार किया जायेगा। इनमें एम्स नई दिल्ली, सिद्धांता रेडक्रॉस हॉस्पिटल भोपाल,आर्टमिस हॉस्पिटल गुड़गाँव, एशियन कैन्सर हॉस्पिटल मुम्बई, सर्वोदय हॉस्पिटल फरीदाबाद, नारायण हृदयालय जयपुर, एम्स भोपाल, प्लेटिना हार्ट हॉस्पिटल नागपुर, डॉ. उल्हास हॉस्पिटल जलगांव, आर्चिड हॉस्पिटल जलगांव, बंसल हॉस्पिटल, चिरायु हॉस्पिटल, एल.बी.एस. हॉस्पिटल, नर्मदा हॉस्पिटल, स्वामी विवेकानंद स्पाइन सेंटर भोपाल, नवोदय हॉस्पिटल भोपाल, ओम हॉस्पिटल भोपाल, सेवा सदन आई हॉस्पिटल भोपाल, कैरियर इंस्टीट्यूट भोपाल, दिव्या ईएनटी भोपाल,नोबिल हॉस्पिटल भोपाल, सिटी हॉस्पिटल जबलपुर, रतन ज्योति नेत्रालय ग्वालियर, इनफिनिटी हार्ट इंस्टीट्यूट जबलपुर, भण्डारी हॉस्पिटल इंदौर, मेदांता हॉस्पिटल इंदौर, श्री अरविन्दो इंस्टीट्यूट इंदौर, ग्रेटर कैलाश हॉस्पिटल, सीएचएल हॉस्पिटल इंदौर, आरजेएन अपोलो स्पेक्ट्रा हॉस्पिटल ग्वालियर, कैन्सर हॉस्पिटल ग्वालियर आदि चिकित्सालय शामिल किये गये हैं। कलेक्टर गढ़पाले ने दिये बेहतर व्यवस्थाओं के निर्देश27 फरवरी को जिला चिकित्सालय में आयोजित होने वाले विशाल मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर के बेहतर आयोजन के निर्देश कलेक्टर विशेष गढ़पाले ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिये हैं। उन्होने आदेश देते हुये कहा है कि शिविरों में अपना उपचार कराने के लिये आने वाले मरीजों का सुगमता से उपचार हो सके, इस बात का विशेष ध्यान रखें।