कमिश्नर ने कार्य ना करने वाले सहायक यंत्री एवं उपयंत्रियों को दी चेतावनी

इस ख़बर को शेयर करें:

होशंगाबाद @ नर्मदापुरम् संभाग कमिश्नर उमाकांत उमराव ने रिपेरियन जोन की बैठक में ग्रामीण यांत्रिकी सेवाएं एवं मनरेगा के सहायक यंत्री एवं उपयंत्रियों को सख्त चेतावनी जारी की, कि वे अगले 5 दिवस में अपने-अपने आवंटित रिपेरियन जोन में तार फेंसिंग का कार्य पूर्ण करा लें। साथ ही तार फेंसिंग सही तरीके से लगाएं। तार फेंसिंग ऐसा लगाए जिससे तार फेंसिंग लगाने का उद्देश्य पूरा हो। कमिश्नर ने सभी सहायक यंत्री एवं उपयंत्रियों को हिदायद दी कि वे काम टालने के उद्देश्य से कोई भी कार्य ना करें। तार फेंसिंग के खम्बें डेढ फुट तक गाडे जाएं ताकि बाढ़ की स्थिति में खम्बों को नुकसान ना पहुंचे। कमिश्नर ने हिदायत दी कि बाढ़ में यदि तार फेंसिंग को कोई हानि पहुंचती है तो संबंधित सहायक यंत्री एवं उपयंत्री से रिकवरी की कार्यवाही की जाएगी।

कमिश्नर ने कहा कि कुछ ग्रामों में आसमाजिक तत्वों ने तार फेंसिंग को क्षतिग्रस्त किया है। उन ग्रामों मे एफआईआर की कार्यवाही की गई है। जो भी दोषी पाया जाएगा उसके विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जाएगी। कमिश्नर ने सभी को हिदायत दी कि वे तार फेंसिंग की खाली पडी भूमि पर घास एवं बीज रोपण करें। ढलान वाली जगह पर आंवला, सीताफल, मुनगा, बबूल, बेल के बीज लगाएं। कमिश्नर ने सभी उपयंत्रियों से कहा कि यदि उन्हें पौध रोपण एवं बीज रोपण हेतु ग्रामों में शासकीय जमीन नहीं मिल पा रही है तो वे तत्काल संबंधित एसडीएम से संपर्क करें। एसडीएम उन ग्रामों में शासकीय जमीन उपलब्ध करायेंगे। उमराव ने बताया कि हर ग्राम में शासकीय जमीन पर्याप्त संख्या में उपलब्ध है।

कमिश्नर ने कहा कि नर्मदा जी के तट क्षेत्र को हमें पुन: हरा-भरा बनाना हैं इसके लिए जल संरक्षण हेतु पौध रोपण का कार्य प्राथमिकता से किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जो अधिकारी सर्वश्रेष्ठ काम करेंगे उन्हें 15 अगस्त को सम्मानित किया जाएगा और जो अधिकारी ठीक ढंग से काम नहीं करेंगे उनके विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। कमिश्नर ने कहा कि पिछले डेढ वर्षों में रिपेरियन जोन में बीज रोपण एवं पौध रोपण के कार्य किए गए। इन सभी कार्यों में ग्राम वासियों ने उत्साह पूर्वक अपनी सहभागिता निभाई। जन समुदाय ने आगे आकर तन-मन-धन से रिपेरियन जोन के कार्य में अपना सहयोग दिया। जब भी ग्रामीणों को बुलाया गया वे तत्काल आए और उन्होंने विभिन्न वनस्पितियों के बीज, कलम एवं पौधे तथा धन राशि दान में दी। कई उदाहरण मिलते हैं कि कई जगह ग्रामीणों ने रिपेरियन जोन से अपना अतिक्रमण स्वेच्छा से हटा लिया ताकि माँ नर्मदा की सेवा में वे अपना योगदान दें सकें।

वहीं कुछ लोगों ने अपनी जमीन भी पौध रोपण के लिए दे दी। इस वर्ष बीज रोपण कार्यक्रम में 30 से 40 हजार लोगों ने अपनी सहभागिता निभाई। कमिश्नर ने सभी सहायक यंत्री एवं उपयंत्रियों को निर्देशित किया कि वे 22 जून तक सौंपे गए कार्य पूर्ण कर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करें। रिपेरियन जोन के नोडल अधिकारी दीपक राय ने कहा कि बरसात के पहले खाली पडी भूमि पर पुन: बीज लगाया जाए। उन्होंने कहा कि रिपेरियन जोन में किए जाने वाले कार्यो के लिए यदि आवश्यक धन राशि की आवश्यकता हो रही है तो उसकी मांग की जाए। जितनी राशि की आवश्यकता होगी उतनी दे दी जाएगी। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पीसी शर्मा, जन अभियान परिषद के संयोजक कौशलेष तिवारी एवं अन्य अधिकारीगण मौजूद थे।