नगर निगम की बैठक में ‘आरक्षण’ शब्द पर मचा विवाद

जबलपुर@ नगर निगम की बैठक मेयर डॉ स्वाती गोडबोले के मुंह से निकले ‘‘आरक्षण ’’ शब्द पर मचा विवाद आज साधारण सभा की बैठक में भी नहीं थमा। बैठक की शुरूआत में ही नेता प्रतिपक्ष राजेश सोनकर ने सरकार को आरक्षण और दलित विरोधी बताते हुए मेयर से इस्तीफा मांगते हुए हंगामा कर दिया। इसके बाद पूरा विपक्ष गर्भगृह में आकर ‘‘महापौर इस्तीफ दो’’ और ‘‘आरक्षण विरोधी सरकार नहीं चलेगी’’ के नारे लगाने लगा। अध्यक्ष सुमित्रा बाल्मीक के समझाने के बाद भी जब विपक्ष नहीं माना तो उन्होंने 5 मिनट के लिए बैठक स्थगित कर दी।

इस्तीफे की मांग को लेकर विपक्ष के हंगामे के बीच अध्यक्ष ने 11.35 बजे पांच मिनट के लिए बैठक स्थगित की, लेकिन इसके बाद भी विपक्ष का हर एक पार्षद हाथ में बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर का पोस्टर और तख्तियां हाथ में लेकर नारेबाजी कर हंगामा करता रहा। समाचार लिखे जाने तक बैठक दोबारा शुरू नहीं हो पाई थी।

वहीं दूसरी ओर सत्ता पक्ष ने विपक्ष पर आरोप लगाया है कि विपक्ष ने मेयर की पूरी बात सुने बिना शब्द का गलत मतलब निकाल लिया। जबकि उनकी मंशा आरक्षण को खैरात बताने की नहीं थी। यह संविधान के तहत दिया जाने वाला एक अधिकार है।अध्यक्ष ने जैसे ही बैठक शुरू करने के निर्देश दिए ,नेता प्रतिपक्ष ने सोमवार को सदन में मेयर के आरक्षण शब्द को मुद्दा बनाते हुए कहा कि उनकी इस टिप्पणी पर निंदा प्रस्ताव लाने की बात कही। सोनकर ने कहा कि वे भी उसी वर्ग से आते हैं, जिससे उन्हें ऐसे शब्दों के प्रयोग से पीड़ा हुई और वे पूरी रात सो नहीं पाए। उन्होंने आज फिर आरक्षण के कारण ही स्वाती गोडबोले के मेयर पद तक पहुंचने की बात दोहराई।