1100 फीट की चुनरी से मां नर्मदा का श्रंगार

जबलपुर@ नर्मदा जयंती की पूर्व संध्या पर मां नर्मदा का 1100 फीट की चुनरी से श्रंगार किया गया। गुरुवार की शाम 4.45 बजे इस आयोजन से पहले नर्मदा उमाशंकर चुनरी भक्त समिति के तत्वावधान में साधु-संतों ने मां नर्मदा का 101 लीटर दूध से अभिषेक किया और सवा लाख फूलों की माला चढ़ाई।

समिति प्रमुख सुधीर अग्रवाल ने बताया है कि समिति ने 12वें वर्ष नर्मदा जयंती से एक दिन पहले नवग्रह मंदिर ग्वारीघाट से गुरुद्वारा तक मां नर्मदा का चुनरी और 1100 ध्वजों की माला से श्रंगार किया। समिति सदस्यों और साधु-संतों ने मां नर्मदा घाट पर असंख्य दीप रोशन किए और दूध का महाप्रसाद बांटा। इस दौरान भारतीय बैंडबाज दल ने मां नर्मदा के भक्तिगीतों की प्रस्तुति दी।

साधु-संतों ने कहा कि हम सबको मां नर्मदा को स्वच्छ रखने का संकल्प लेकर अपनी शक्ति, श्रद्धा के अनुसार उनकी सेवा करना चाहिए। इस अवसर पर कार्यक्रम में उपस्थित सभी सदस्यों ने देश की सरहद पर शहीद हुए सैनिकों को 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी।

नवग्रह मंदिर घाट पर जमा साधु-संतों ने मां नर्मदा की पूजा-अर्चना की। इनमें मुख्य स्वामी गिरीशानंद महाराज, स्वामी कालीनंद गिरि, जगतगुरू राघवदेवाचार्य, स्वामी पगलानंद, साध्वी ज्ञानेश्वरी दीदी, स्वामी मुकुंददास, स्वामी चन्द्रशेखरानंद, डॉ. राधेचैतन्य महाराज, आचार्य इन्द्रभान, मैत्री दीदी, अम्बिकानंद महाराज आदि रहे।

नर्मदा महाआरती के संस्थापक डॉ. सुधीर अग्रवाल, सोनू सैनी, अमर सिंह ठाकुर, डॉ. राकेश अहिरवार, डॉ. शिवशंकर पटेल, योगेन्द्र सिंह गोलंदाज, प्रमोद विश्वकर्मा, राजेश साहू, कमल विश्वकर्मा, सुरेन्द्र खरे, मनीष कुमार पटेल, विनीत सिंह, राजू वर्मा, अमित तिवारी, प्रभात सिंह चौहान सहित अन्य मौजूद रहे।