नाबालिक बच्ची को राजस्थान से किया गया दस्तयाब, बड़ी बहन ने पति के साथ मिलकर 1 लाख रूपए में बेचा था

इस ख़बर को शेयर करें:

जबलपुर। माढ़ोताल क्षेत्र से 7 माह पहले गायब हुई 14 साल की किशोरी राजस्थान में बरामद हुई है। 55 साल की महिला ने बीते माह माढ़ोताल थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि उसके दामाद ने बेटी का अपहरण कर बेच दिया। महिला की शिकायत पर माढ़ोताल पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच पड़ताल की तो पता चला कि किशोरी को राजस्थान में बेचा गया है।

जबलपुर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के दिशा-निर्देश पर एक टीम गठित कर राजस्थान पहुंचाया जहां पहुंचने के बाद पुलिस कर्मियों उस वक्त होश उड़ गए जब 14 साल की किशोरी मांग पर सिंदूर देखा। पुलिस कर्मियों को माथा ठनक गया और उन्होंने आरोपियों की पतासाजी कर बालिका से शादी रचाने वाले और बेचने वाले दामाद को गिरफ्तार किया। हालांकि बालिका की बहन अभी भी पुलिस पकड़ से दूर है।

पुलिस की फटकार पड़ते ही जुर्म कबूला
माढ़ोताल पुलिस ने बताया कि दस्सू नुनिया फरार था जिसकी तलाश की जा रही थी, दस्सू नुनिया के मिलने पर पूछताछ की गई जिसने बताया कि 08 मार्च 2020 को वह अपनी साली को बाजार में कपड़े खरीदने लेकर गया था जहॉ मीना नुनिया मिली जहॉ से दोनों मिलकर नाबालिक बच्ची को कपड़ा खरीदने को कहकर सीधे ममौधन थान बसेड़ी जिला धौलपुर राजस्थान ले कर गये जहॉ विनोद परमार को एक लाख रुपए में बेच दिए ।

जबलपुर पुलिस टीम द्वारा विनोद परमार पिता स्व. दिनेश परमार निवासी ममौधन बसेड़ी जिला धौलपुर राजस्थान जिसने नाबालिक बच्ची से शादी की थी को अभिरक्षा में लेते हुये नाबालिक बच्ची को दस्तयाब किया गया। फरार आरोपी मीना नुनिया की तलाश पतासाजी जारी है।