गुजरात में बाढ़ की स्थिति गंभीर, राहत और बचाव कार्य जोरों पर

गुजरात में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है। राज्य के बनासकांठा और पाटन जिला सबसे अधिक प्रभावित है। मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने बनासकांठा में हवाई सर्वेक्षण किया। सेना, नौसेना और वायु सेना , बीएसएफ के साथ ही एनडीआरएफ और स्थानीय प्रशासन लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने में लगा है। राज्य में एनडीआरएफ की 33 टीमें बचाव और राहत कार्य के लिए तैनात हैं। मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने कहा कि राहत कार्य, बिजली और पानी की आपूर्ति, स्वच्छता और स्वास्थ्य अभियान की सुविधा मुहैया कराने में प्रशासन जुटा हुआ है।

गौरतलब है कि आज मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के कुछ हिस्सों में बाढ़ के हालात का जिक्र किया। प्रधानमंत्री ने देश के कुछ हिस्सों में प्राकृतिक आपदा से निपटने की पूरी तैयारी का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की पूरी निगरानी हो रही है…सेना, वायुसेना, एनडीआरएफ के लोग आपदा पीड़ितों की मदद में जुटे हैं। गुजरात के अलावा असम, बंगाल के बड़े हिस्से में भी बाढ़ जैसे हालात बने हुए हैं। मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनो में राजस्थान और मध्यप्रदेश में भारी बारिश के कारण नदियों के जलस्तर बढ़ने की चेतावनी जारी की है।