अमेरिकी युवक ने दिया था भारतीय का साथ, जख्मी हालत में अस्पताल में भर्ती

बुधवार की रात अमेरिका के ओलाथे स्थित एक रेस्टोरेंट में भारतीयों को निशाना बनाया गया। हमलावर ने भारतीय को निशाना बनाते हुए फायरिंग शुरू की। इस हादसे में एक भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचीभोतला को गोली लग गई, जिसकी मौके पर ही मौत हो गई। इसके अलावा दो अन्य भारतीय व उनकी मदद करने वाले एक अमेरिकी युवक बुरी तरह से जख्मी हो गया है, जिसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

गौरतलब है कि 24 साल के अमेरिकी ईयान ग्रिलोट ने दुनिया को इंसानियत का संदेश देते हुए कल हुए भारतीयों पर हमले के समय मदद की थी जिसमें ईयान बुरी तरह जख्मी हो गए थे।

फिलहाल, ग्रिलोट अस्पताल में है व ग्रिलोट ने कहा कि जब शूटिंग शुरू हुई तो वह टेबल के नीचे छिप गए और तब बाहर आए जब उन्हें लगा कि गन की मैगेज़ीन खाली हो गई है। उन्होंने बताया कि शूटर ने उन पर नौ गोलियां चलाईं जो उनकी छाती, गर्दन और हाथ पर लगी। इसके बाद उन्होंने खुद को अस्पताल में पाया। ग्रिलोट ने कहा कि वह खुद को बेहद खुशनसीब समझते हैं कि वह बच गए।

उन्होंने बताया कि इस गोलीबारी में बाल बाल बचे आलोक मदासानी उनसे मिलने अस्पताल आए थे। ग्रिलोट ने बताया कि ‘जो शख्स बच गया था, वह मुझसे मिलने आया था। उनकी पत्नी पांच महीने से गर्भवती हैं। अपने दोस्त को खोना दर्दनाक है। उन्हें देखकर मेरे चेहरे पर खुशी आ गई। बता दें, 32 साल के श्रीनिवास कुचिभोटला कनसास की अमेरिकी मल्टीनेश्नल कंपनी गार्मिन में काम करते थे और उनके परिवार में पत्नी सुनयना हैं जो आईटी क्षेत्र में ही काम करती हैं।