शिशु स्वास्थ्य के लिए राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम और नियमित टीकाकरण पर पूरा ध्यान केन्द्रित किया जाए

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में महिलाओं के सुरक्षित प्रसव तथा प्रत्येक शिशु के सुरक्षित जन्म व पोषण की बेहतर सुविधा उपलब्ध कराए जाने पर जोर देते हुए कहा है कि मातृ और शिशु मृत्यु दर में और बेहतर नतीजे प्राप्त करने की कार्य योजना बनाई जाए। उन्होंने कहा कि जननी सुरक्षा योजना, जननी शिशु सुरक्षा योजना और प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

मुख्यमंत्री आज यहां शास्त्री भवन में परिवार कल्याण विभाग के प्रस्तुतिकरण के अवसर पर अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शिशु स्वास्थ्य के लिए राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम और नियमित टीकाकरण पर पूरा ध्यान केन्द्रित किया जाए। उन्होंने कहा कि भ्रूण हत्या की रोकथाम हेतु पी0सी0पी0एन0डी0टी0 एक्ट के तहत कार्रवाई की जाए।

उन्होंने कहा कि लिंगानुपात की समस्या को घटाने के हर सम्भव प्रयास किए जाएं। उन्होंने कहा कि आधुनिक सुविधा से लैस प्राथमिक उप स्वास्थ्य केन्द्र स्थापित किए जाएं और आशा बहुओं के मानदेय में न्यायोचित वृद्धि पर कार्यवाही की जाए। इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य सहित मंत्रिमण्डल के अन्य सदस्य एवं वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।