टावर लगाने के नाम पर व्यापारियों को झांसे मे लेकर कर रहे ठगी

पीथमपुर भोपाल। शहर में टावर लगाने के नाम पर पिता – पुत्र का एक गिरोह शहर के प्रतिष्ठित व्यापारियों को झांसे मे लेकर ठगी कर रहे है। पीथमपुर शहर मे टावर लगाने के नाम पर पिता – पुत्र का एक गिरोह शहर के प्रतिष्ठित व्यापारियों को झांसे मे लेकर ठगी कर रहे है। पिता – पुत्र का ये गिरोह अब तक शहर के पांच बड़े व्यापारियों से अपने बैंक खाते में लाखों रुपए की राशि डलवा चुका है। ये गिरोह सबसे पहले रजिस्ट्रेशन करवाने के नाम पर 15 से 20 हजार रुपए मांगते है।

अचरज की बात तो यह है कि वर्तमान में शहर में किसी भी कंपनी का मोबाइल टावर लगाना प्रतिबंधित है। सभी व्यापारियों ने मंगलवार को इसकी शिकायत सेक्टर एक थाने पर जाकर की है। टीआई चन्द्रभान चढ़ार ने तत्काल आरोपियों को पकडऩे के लिए टीम गठित कर दी है।

ये हाइटेक लुटेरे सब काम फोन और मेल पर

टावर लगाने के नाम पर लोगों से पहले तो मोबाइल से मैसेज के माध्यम से पता व टावर लगवाए जाने वाले स्थान का डिटेल मांगा जाता है। फिर ईमेल के जरिए जमीन के कागजात रसीद और वोटर आईडी कार्ड का स्कैन भी मंगवाते हैं। सामने वाले को बोलते है कि आपके एक आदमी को 40 हजार की नौकरी लगाई जाएगी।

व्यापारियों के पास 7509999910 से फोन कर अपनी पहचान बताकर टावर लगाने के नाम पर पैसा मांगते है। ये गिरोह आयुशा शर्मा का फ़ोन पर नम्बर 8827760160 पर पैसे डलवाने की मांग करते है। विश्वास कर व्यापारियों ने इस नंबर पर पैसे डाल दिए। इसके अब तक कोई टावर नही लगा। झांसा देने के लिए व्यापारियों को फर्जी ओटीपी नम्बर भी भेजते है। व्यापारियों ने बताया कि फोन कर वो बोलता था कि कलेक्टर को पैसे देना हैए पैसे अकाउंट मे डालो। अगले दिन आपको परमिशन लेटर मिल जाएगा।

बता दे कि दोनों पिता पुत्र पहले पीथमपुर के सीसी पॉवर चौराहे पर एक मल्टी मे रहते थे और बर्फ का कारोबार करते थे। लेकिन यहाँ पर करोड़ो रूपये मे मल्टी बेचकर दोनो उज्जैन चले गए। पीथमपुर मे करीबन 15 साल तक बर्फ का कारोबार करता था, जिससे उसकी सभी बड़े व्यापारियों से अच्छी बातचीत थी। इसमें युवक का नाम माधवराम शर्मा ओर उसका पुत्र लंकेश शर्मा दोनो मिलकर व्यापारियों के साथ ठगी कर रहे है।

मेरे पास आवेदन आए हैए टीम गठित कर दी है। आरोपी को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

चन्द्रभान चढ़ार, टीआई पीथमपुर