कामाख्या सेवा संस्था द्वारा ग्वारीघाट हनुमान मंदिर में मनाया गया तुलसी दिवस

Tags:
इस ख़बर को शेयर करें:

जबलपुर। कामाख्या सेवा संस्था ने आज 25 दिसंबर को अपना पहला कार्यक्रम “तुलसी दिवस” मनाया। आपको बता दें कि तुलसी पूजन दिवस, हिंदू धर्म का एक पवित्र दिवस है। तुलसी केवल एक पौधा ही नहीं बल्कि धरा के लिए वरदान है और इसी वजह से हिंदू धर्म में इसे पूज्यनीय माना गया है। धनुर्मास में सभी सकाम कर्म वर्जित होते हैं परंतु भगवत्प्रीतिर्थ कर्म विशेष फलदायी व प्रसन्नता देने वाले होते हैं। 25 दिसम्बर धनुर्मास के बीच का समय होता है।

कामाख्या सेवा संस्था द्वारा ग्वारीघाट हनुमान मंदिर में तुलसी के पौधों का विधि पूर्वक पूजन अर्चन करके तुलसी जी की 7 परिक्रमा की गई तथा कुछ प्रसाद चढ़ायें। दीपक जलाकर आरती की गई। इस शुद्ध वातावरण में शांत हो के भगवत्प्रार्थना की गई ।

 

 

तुलसी नामाष्टक का पाठ करके, तुलसी लगाओ अभियान के तहत तुलसी का पौधा हर घर में पहुँचे ताकि हर कोई इस पुण्य-स्वास्थ्य प्रदायक, धन-धान्य-सौभाग्य वर्धक, हृदय में भगवद्भक्ति उत्पन्न करने वाले पूजन का लाभ ले सकें। यह लोकहितकारी दैवी कार्य खूब व्यापक हो और समस्त विश्वमानव इससे लाभान्वित हो इस उद्देश्य से कामाख्या सेवा संस्था द्वारा घर-घर तुलसी लगाओ अभियान शुरु किया गया है।

इस अवसर पर वरिष्ठ समाज सेवी श्री राजाराम नामदेव ने उपस्थित जनो को तुलसी का पौधा वितरित किया, एवं पंडित कन्हैया तिवारी ने तुलसी का महत्व बताते हुए सभी वर्ग के लोगो को इसे अपनाने के लिए प्रेरित किया।