लखनऊ में बनेगा यूपी पुलिस एवं फाॅरेंसिक साइंस विश्वविद्यालय, सीएम योगी ने दिया निर्देश

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समक्ष उनके सरकारी आवास पर यूपी पुलिस एवं फाॅरेंसिक साइंस विश्वविद्यालय के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण किया गया. इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इस विश्वविद्यालय की स्थापना जल्द से जल्द की जाए. उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून का राज स्थापित करते हुए अपराध पर नियंत्रण राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में शामिल है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश सरकार पीड़ितों को त्वरित न्याय दिलवाने के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा कि न्यायालयों में दायर विभिन्न प्रकार के वादों के निस्तारण में फाॅरेंसिक रिपोर्ट की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है. प्रदेश में विधि विज्ञान के क्षेत्र में दक्ष लोगों की उपलब्धता तथा फाॅरेंसिक साइंस में उच्चस्तरीय शोध के उद्देश्य से राज्य सरकार यूपी पुलिस एवं फाॅरेंसिक साइंस विश्वविद्यालय की स्थापना कर रही है.

इस दौरान मुख्यमंत्री जी को यूपी पुलिस एवं फाॅरेंसिक साइंस विश्वविद्यालय के गठन, इसके लिए भूमि के आवंटन, बजट के आगणन, विश्वविद्यालय के संचालनार्थ पदों के सृजन, विश्वविद्यालय में प्रस्तावित विभागों, कुल प्रस्तावित पदों, यूपी पुलिस एवं फाॅरेंसिक साइंस विश्वविद्यालय एवं डाॅ.

एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय के बीच एमओयू इत्यादि के विषय में विस्तार से जानकारी दी गई. मुख्यमंत्री ने जनपद लखनऊ की सरोजनीनगर तहसील में पुलिस प्रशिक्षण संस्थान के नाम दर्ज 57.549 हेक्टेयर भूमि में से इस विश्वविद्यालय के लिए 50 एकड़ भूमि की व्यवस्था करने के निर्देश दिए.

उन्होंने इस विश्वविद्यालय के निर्माण कार्य को शीघ्र प्रारम्भ कर संचालित करने के निर्देश दिए. इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक श्री हितेश सी0 अवस्थी, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री संजीव मित्तल, अपर मुख्य सचिव व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास श्रीमती एस राधा चैहान, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री श्री एसपी गोयल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना श्री संजय प्रसाद सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे.