MP पुलिस की हिरासत में यूपी का बहुबली विधायक विजय मिश्रा, दर्ज हैं 73 मामले

भोपाल : मध्‍य प्रदेश की पुलिस ने आगर में यूपी के बाहुबली विधायक विजय मिश्रा को हिरासत में लिया है. भदोही जिले की ज्ञानपुर सीट विधायक विधायक विजय मिश्रा के खिलाफ अवैध तरीके से एक व्‍यक्ति की संपत्ति पर कब्‍जा करने के मामले में एफआईआर दर्ज है. एमपी के आगर जिले की पुलिस में विधायक मिश्रा की हिरासत के बाद यूपी के भदोही से एक पुलिस टीम उन्‍हें गिरफ्तार करने के लिए रवाना हो गई है. 

भदोही के एसपी ने कहा, ज्ञानपुर एमएलए विजय मिश्रा को मध्‍य प्रदेश के आगर एसपी के द्वारा हिरासत में लिया गया है. हमारी टीम एमपी के लिए रवाना हो गई है. उनकी पत्‍नी और बेटे को भी जल्‍द ही गिरफ्तार किया जाएगा. 

एमपी के आगर जिले के एसपी राकेश सागर ने कहा कि विधायक मिश्रा को हमारे द्वारा गिरफ्तार नहीं किया गया है केवल हिरासत में है क्‍योंकि अपराध उत्‍तर प्रदेश के भदोही में हुआ है, जो हमारे अधिकार क्षेत्र में नहीं है. केस की जांच करने वाले अधिकारी भदोही से आएंगे और गिरफ्तारी की औपचारिकता पूरी करेंगे.

विधायक ने एनकाउंटर में मारे जाने की आशंका जताई थी
बता दें कि उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में ज्ञानपुर विधानसभा सीट से विधायक विजय मिश्र ने अपनी जान को खतरा बताते हुए हाल ही में एक वीडियो जारी किया था. इसमें विधायक मिश्रा ने कहा कि मेरा इतना ही कुसूर है कि मैं ब्राह्मण हूं और कभी भी मुझे मारा जा सकता है. मेरा एनकाउंटर किया जा सकता है. विधायक ने कहा कि पूर्वाचल के कई माफिया और सियासी धुर विरोधी साजिश रच रहे हैं. पंचायती चुनाव में कब्जा करने के लिए भदोही पर सबकी निगाह है. इसके साथ ही पुलिस भी मुझे गिरफ्तार कर मार सकती है. आज ही मेरी हत्या की जा सकती है.

पुलिस भी मुझे गिरफ्तार कर मार सकती है
विधायक विजय मिश्र ने एक वीडियो जारी कर कहा था कि मेरा इतना ही कुसूर है कि मैं ब्राह्मण हूं और कभी भी मुझे मारा जा सकता है. मेरा एनकाउंटर किया जा सकता है. विधायक ने कहा कि पूर्वाचल के कई माफिया और सियासी धुर विरोधी साजिश रच रहे हैं. पंचायती चुनाव में कब्जा करने के लिए भदोही पर सबकी निगाह है. इसके साथ ही पुलिस भी मुझे गिरफ्तार कर मार सकती है. आज ही मेरी हत्या की जा सकती है.

मेरी पत्नी रामलली और बेटे विष्णु को फर्जी मामले में फंसाया जा रहा है
विधायक विजय मिश्रा ने कहा था, मेरी पत्नी रामलली और बेटे विष्णु को फर्जी मामले में फंसाया जा रहा है.” उन्‍होंने कहा, ब्राह्मण होने के नाते उन्हें परेशान किया जा रहा है, क्योंकि वह ब्राह्मण होकर चार बार से विधायक हैं. विजय मिश्रा वीडियो में यह कहते दिख रहे हैं कि उनके साथ ये सब इसलिए हो रहा है, ताकि बनारस या चंदौली का कोई माफिया यहां आकर चुनाव लड़ सके. बलिया के किसी बेटे को चुनाव लड़ाने की बात भी कर रहे हैं, इसीलिए उनकी हत्या कराई जा सकती है.

विधायक पर रिश्तेदार ने संपत्ति के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया है
विधायक पर उनके रिश्तेदार धनापुर गांव निवासी कृष्णमोहन तिवारी ने जबरन घर में रहने और वसीयत बनाकर उनकी संपत्ति अपने बेटे के नाम करने के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया है. तिवारी ने विधायक, उनकी पत्नी एमएलसी रामलली मिश्रा और पुत्र विष्णु मिश्र पर गोपीगंज थाने में 7 अगस्त को मुकदमा दर्ज कराया था. विधायक विजय मिश्रा ने अपना राजनीतिक सफर कांग्रेस से शुरू किया. इसके बाद सपा और बाद में निषाद पार्टी में शामिल हुए.

पुलिस ने कहा- उनके विरुद्ध 73 अभियोग दर्ज हैं
विधायक के इस बयान पर भदोही पुलिस ने ट्विटर पर बयान जारी कर कहा, ”विधायक विजय मिश्र द्वारा 13 अगस्त को एक वीडियो जो असत्य तथ्यों को आधार बनाकर अपने आपराधिक कृत्यों से ध्यान भटकाने तथा जनता में भ्रम फैलाने के उद्देश्य से जारी किया गया. उनके विरुद्ध 73 अभियोग दर्ज हैं. सुरक्षा के लिए उन्हें गनर दिया गया है. वीडियो में लगाए गए आरोप असत्य और निराधार हैं.”