देखें वीडियो: जबलपुर की खमरिया फैक्ट्री में धमाके के बाद लगी भीषण आग कोई जनहानि नहीं

जबलपुर : मध्य प्रदेश के जबलपुर स्थित ऑर्डनेंस फैक्ट्री में शनिवार को भीषण आग लग गई। आग के अलावा फैक्ट्री में कई विस्फोट हुए। इस हादसे में छह कर्मचारी झुलस गए जबकि कई अंदर फंसे हुए हैं। इस आर्डिनेंस फैक्ट्री में सेना के लिए गोला-बारूद बनाए जाते हैं। शनिवार शाम को फैक्ट्री के एफ सेक्शन में अचानक धमाके के बाद आग लग गई। हादसे के वक्त यहां काफी बारूद इकठ्ठा करके रखा गया था, जिसमें 100 से ज्यादा धमाके होने की बात कही जा रही है।

बताया जा है कि पहले धमाका हुआ और बाद में आग लग गई. यहां 125 और 80 एमएम बम का डिपो है जहां आग लगी है. मौजूद कर्मचारियों के अनुसार सभी बमों का स्टॉक है. यहां एल 70 बम हैं.बिल्डिंग नंबर 308 में एंटी एयर क्राफ्ट बम हैं. कुछ लोगों के अनुसार फैक्ट्री में धमाके की आवाज भी सुनी गई. आग लगने से खमरिया फैक्ट्री के इलाके में अफरा- तफरी का माहौल निर्मित हो गया. आर्डिनेंस फैक्ट्री में आग लगने की सूचना मिलने पर कलेक्टर और एस पी घटना स्थल के लिए रवाना हो गए हैं.

आग पर काबू पाने का भरसक प्रयास किया जा रहा है. लोडिंग-अनलोडिंग का स्टाफ घटना के समय अंदर था. उन तक एम्बुलेंस नहीं जा पा रही है. जनहानि की घटना नहीं हुई है . बचाव दल उस सेक्सन तक नहीं पहुंच पा् रहा है जहां विस्फोट हो रहे हैं. आग लगने की सूचना के बाद फैक्टरी गेट के सामने कर्मचारियों और लोगों की भीड़ लगी हुई है. प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि अभी भी धमाके रुक – रुक कर हो रहे हैं. शाम 6 से साढ़े 9 बजे के बीच करीब 500 से अधिक धमाके हो चुके हैं.

डेढ़ सौ कर्मचारी अंदर ही फंस गए

शाम की शिफ्ट के करीब डेढ़ सौ कर्मचारी अंदर ही फंस गए. एफ-3 सेक्शन की बिजली सप्लाई भी बंद कर दी गई है, ताकि शार्ट सर्किट से कहीं और बमों में विस्फोट न हो. धमाके सुन फैक्ट्री कर्मचारियों में भगदड़ मच गई. जिससे कुछ कर्मचारी मामूली रूप से घायल हो गई है ,जिन्हें खमरिया हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है धमाकों की आवाज सुनकर कर्मचारियों के परिजन और कर्मचारी नेताओं की भीड़ खमरिया के गेट नं.1, 3 के सामने लग गई. हर मिनट में दो से तीन बम धमाकों की आवाज गूंज रही थी. आयुध निर्माणी की फायर ब्रिगेड ने मौके पर आग बुझाना शुरू कर दिया था. वहीं नगर निगम, जीसीएफ और व्हीकल फैक्टरी की फायर ब्रिगेड भी आग बुझाने में लगी हुई हैं. घटना की जानकारी मिलते ही कलेक्टर और एसपी सहित पुलिस-प्रशासन का अमला भी मौके पर पहुंच गया है.

आसपास के गांवों में दहशत

खमरिया में होने वाले धमाकों की आवाज सुनकर रांझी, मानेगांव, रिठौरी, बिलपुरा, चंपानगर, पिपरिया आदि क्षेत्र में दहशत फैल गई. दहशत के कारण लोग घरों को छोड़कर सुरक्षित स्थानों के लिए शहर की तरफ भागे. आग की लपटें देखकर ईस्टलैंड, वेस्टलैंड और आसपास के गांवों में बसे कर्मचारियों के परिवार के लोग भागकर खमरिया फैक्ट्री पहुंच रहे हैं. वहीं घटना के बाद निर्माणी के अधिकारियों ने फोन पर बात करना तक बंद कर दिया है.

कैसे हुआ हादसा

कर्मचारी नेता बताते हैं कि एफ-3 सेक्शन में बमों की फिलिंग (खोल में बारूद भरना) का काम होता है. इसके बाद बमों को पास की बिल्डिंग नंबर 324 में स्टोर करके रखा जाता है. इस बिल्डिंग में करीब 12 हजार 500 से ज्यादा बम स्टोर हैं. एक बम गिरने से वह फट गया और इसके बाद एक के बाद एक लगातार बमों में धमाके होते रहे. वहीं कुछ कर्मचारियों का कहना है कि गर्मी बढ़ने की वजह से भी बम फट सकते हैं. हालांकि, कारणों का खुलासा विस्तृृत जांच के बाद ही होगा.