जानिए कौन है ये महिला, जो जांबाज विंग कमांडर अभिनंदन को वाघा बॉर्डर तक छोड़ने आई?

इस ख़बर को शेयर करें:

न दिनों विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को लेकर सोशल मीडिया पर एक सवाल पूछा जा रहा है – शुक्रवार रात नौ बजे के बाद पाकिस्तानी रेंजर्स और विदेश विभाग के अधिकारी अटारी-वाघा बॉर्डर तक विंग कमांडर अभिनंदन को छोड़ने आए। इस दौरान एक महिला भी विंग कमांडर अभिनंदन के साथ मौजूद थी। वह उनके साथ अटारी-वाघा बॉर्डर तक चलकर आईं। इस महिला पर सबकी निगाह लगी रही और सवाल उठने लगे कि आखिर यह महिला कौन है?

पाकिस्तान के लड़ाकू विमान एफ-16 को खदेड़ने के दौरान दुश्मन के कब्जे में पहुंचे विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को भारतीय नेतृत्व और कूटनीति की बदौलत पाकिस्तान पर अंतरराष्ट्रीय दबाव पड़ा जिससे उसे अभिनंदन को करीब 60 घंटे के अंदर स्वदेश रवाना करना पड़ा।

जानें कौन है महिला
आपको बता दें कि यह यह महिला न तो विंग कमांडर अभिनंदन की पत्नी है और न ही रिश्तेदार। दरअसल यह महिला पाकिस्तान विदेश विभाग में भारत मामलों की डायरेक्ट हैं, जिसका नाम डॉ फरिहा बुगती है। फरिहा बुगती पाकिस्तान विदेश सेवा (FSP) की अधिकारी हैं, जो भारतीय विदेश सेवा (IFS) के समकक्ष है।

डॉ फरिहा बुगती भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव मामले को भी देखती हैं। फिलहाल जाधव पाकिस्तान की गिरफ्त में हैं। पिछले साल जब जाधव की मां और पत्नी उनसे मिलने पाकिस्तान गए थे, तब भी डॉ फरिहा बुगती मौजूद थीं।

बता दें कि भारतीय वायुसेना के पायलट अभिनंदन वर्तमान को बुधवार को पाकिस्तानी सेना ने कैद कर लिया था। बुधवार सुबह जब पाकिस्तानी विमान ने भारतीय हवाई सीमा में घुसने की कोशिश की तो विंग कमांडर अभिनंदन ने पाकिस्तान का F-16 विमान मार गिराया। इसी दौरान उनका विमान भी क्षतिग्रस्त हो गया। वह पैराशूट से कूदे लेकिन कुछ देर बाद पाकिस्तानी सेना ने उन्हें कैद कर लिया। पाकिस्तान की कैद में होने के बावजूद अभिनंदन के चेहरे पर निडरपन था।

पाकिस्तानी सेना की हिरासत में आने के बाद विंग कमांडर ने निडर होकर अपना परिचय देते हुए कहा था- मेरा नाम विंग कमांडर अभिनंदन है। मेरा सर्विस नंबर 27981 है। मैं एक फ्लाइंग पायलट हूं और मेरा धर्म हिंदू है। दुश्मन की जमीन पर होने का अहसास होते ही और वहां के सुरक्षा बलों के हिरासत में लिये जाने से पहले ही उन्होंने अपने पास मौजूद संवेदनशील दस्तावेजों को नष्ट किया।

विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान

बताया जाता है कि इनमें से कुछ को तो वह चबा गये। हिरासत में लिये जाने के बाद पाकिस्तानी सुरक्षा बलों और स्थानीय लोगों ने अभिनंदन के साथ बदसलूकी और मारपीट की थी। पाकिस्तान की ओर से जारी किये गये पूछताछ के वीडियो में भी अभिनंदन बेखौफ नजर आए थे तथा उन्होंने पूछताछ में कोई भी संवेदनशील जानकारी देने से मना किया था। इसके बाद भारतीय नेतृत्व और कूटनीति की बदौलत पाकिस्तान पर अंतरराष्ट्रीय दबाव पड़ा जिससे उसे अभिनंदन को करीब 60 घंटे के अंदर स्वदेश रवाना करना पड़ा।