यूपी में सीएम दफ्तर के सामने 2 महिलाओं ने खुद को लगाई आग, एक की हालत गंभीर

लखनऊ। शुक्रवार को लखनऊ में मुख्यमंत्री के दफ्तर के सामने खुद को आग लगा ली। इस घटना में मां-बेटी बुरी तरह से झुलस गई हैं। वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने किसी तरह आग पर काबू पाया और दोनों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। पुलिस ने बताया कि दोनों अस्पताल में भर्ती हैं और एक की हालत गंभीर है।

बताया जा रहा है कि अमेठी जिले के जामो थाना क्षेत्र की रहने वाली सोफिया (56) ने अपनी बेटी गुड़िया (28) के साथ लोक भवन के सामने मिट‌्टी का तेल छिड़क कर आग लगा ली। सोफिया आग की लपटों से घिरी सड़क पर दौड़ती रही। किसी तरह वहां मौजूद लोगों की मदद से पुलिस ने आग बुझाई और दोनों को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया। सोफिया की हालत गंभीर बनी हुई है।

आरोप है कि जामो में उनका कुछ लोगों से जमीन व पानी निकासी को लेकर विवाद चल रहा है। इसमें प्रशासन कोई मदद नहीं कर रहा है। इससे नाराज होकर ही दोनों ने यह कदम उठा लिया। एसीपी हजरतगंज अभय कुमार मिश्रा के मुताबिक इन दोनों के आत्मदाह के प्रयास के बारे में कोई सूचना नहीं थी। अमेठी पुलिस व प्रशासन ने भी ऐसी कोई जानकारी नहीं दी थी।

गुड़िया से यह पता चला कि जामो में उनकी पैतृक जमीन है। इस पर कब्जा व पानी निकासी को लेकर कुछ लोगों से विवाद चल रहा है। कब्जा करने वाले लोग कई बार परेशान कर चुके हैं। कुछ दिन पहले दोनों पर हमला भी किया गया था। इस संबंध में उन्होंने जामो पुलिस व एसडीएम के यहां शिकायत भी की, लेकिन किसी से मदद नहीं मिली।

हर जगह से हारकर दोनों लोकभवन के सामने पहुंचे। किसी के कुछ समझने से पहले ही सोफिया ने गुड़िया पर तेल छिड़का, फिर खुद पर पीपिया उड़ेल ली और आग लगा ली। उनकी चीख सुनकर लोग बचाने दौड़े तो सोफिया सड़क पर इधर-उधर भागने लगी। कुछ लोगों की मदद से बड़ी मुश्किल से पुलिस ने आग बुझाई और तुरंत ही सिविल अस्पताल भेजा। एडीसीपी चिरंजीव नाथ सिन्हा ने बताया कि अमेठी पुलिस को सूचना दे दी गई है। वहां से पूरे मामले की जानकारी मंगाई गई है।