गोली से घायल हुए हिरण की मौत

सतना@ बुधवार की रात शिकारियों की गोली से घायल हिरण भागते-भागते सतना रेंज के गुड़हरू गांव पहुंच गया। जहां एक नाला के किनारे पहुंचने पर हिरण ने दम तोड़ दिया। जिले के वन परिक्षेत्रों में शिकारियों का गिरोह तेजी से सक्रिय है। जिसके चलते यहां रातभर शिकारी जंगलों में वन्य प्राणियों को निशाना बना रहे हैं। ज्यादातर वन्य प्राणी तो निवाला बन जाते हैं, लेकिन कुछ जान बचाने के लिये जंगल से बस्ती की ओर भाग आते हैं। ऐसे कई मामले सामने आते ही रहते हैं, जिसमें ग्रामीणों द्वारा हिरण, सांभर और नीलगाय की जान बचाई जा चुकी है।

गुरुवार की सुबह गुडहरू गांव के ग्रामीणों ने देखा कि एक हिरण गंभीर रूप से घायल होकर जंगल से भागते हुए आया। ग्रामीणों की नजर पड़ते ही वो उस घायल हिरण की मदद करने के लिए पकड़ने की कोशिश की, लेकिन बंदूक की गोली लगने की वजह से हिरण ग्रामीणों की भीड़ देखकर नाले की ओर भाग गया। जहां पहुंचकर ग्रामीणों ने देखा तो हिरण कीचड़ में पड़ा हुआ था। जिसके पैर से भारी मात्रा में खून बह रहा था। इससे पहले कि ग्रामीण वन अमले को सूचना दे पाते और उस घायल हिरण का इलाज हो पाता, हिरण की मौत हो गई। जिसके बाद ग्रामीणों ने वन अधिकारियों को घटना से अवगत कराया।

रेंजर रामअवतार साहू दल-बल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे, जहां उन्होंने देखा कि हिरण के दाएं पैर में जांघ के पास बंदूक की गोली लगने से गहरा घाव बना हुआ था। जिसकी वजह से हिरण के शरीर का खून भारी मात्रा में बह चुका था। पशु डॉक्टरों ने भी बताया है कि खून बहने की वजह से ही हिरण की मौत हुई है। वन अधिकारियों ने मौके पर मौजूद ग्रामीणों से हिरण के बारे में पूछताछ कर बयान दर्ज किया। ग्रामीणों ने वन अधिकारियों को बताया कि जब हिरण जंगल की ओर से आया तो उसके पैर में गोली लगी हुई थी। इससे जाहिर होता है कि उसका शिकार किया गया है।