वर्तमान वित्तीय वर्ष में प्रदेश के 40 जनपदों में योग वेलनेस सेण्टर स्थापित होंगे: मुख्यमंत्री

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिये हैं कि वर्तमान वित्तीय वर्ष में प्रदेश के 40 जनपदों में योग वेलनेस सेण्टर की स्थापना आयुर्वेद के 23, यूनानी के 07 एवं होम्योपैथिक के 12 चिकित्सालयों में करायी जायेगी। शेष 35 जनपदों में योग वेलनेस सेण्टरों की स्थापना हेतु भारत सरकार से अनुरोध किया जाये। उन्होंने कहा कि आगामी 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर लखनऊ में 51 हजार व्यक्तियों की सहभागिता सुनिश्चित कराकर सामूहिक योग प्रदर्शन कार्यक्रम आयोजित कराने हेतु आवश्यक व्यवस्थायें समय से सुनिश्चित करा ली जायें।

आयुर्वेद एवं यूनानी विधा के पंचकर्म, क्षारसूत्र एवं इलाज बिद तदबीर विशेषज्ञता केन्द्रों की स्थापना लखनऊ, गोरखपुर, वाराणसी, सहारनपुर एवं बांदा में कराये जाने हेतु आवश्यक कार्यवाहियां प्राथमिकता से सुनिश्चित करायी जायें। राजकीय आयुर्वेदिक महाविद्यालय एवं चिकित्सालय वाराणसी, यूनानी काॅलेज इलाहाबाद एवं टी0टी0 काॅलेज लखनऊ तथा राजकीय होम्योपैथिक मेडिकल काॅलेज लखनऊ, इलाहाबाद में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों को प्रारम्भ कराया जायेगा। समस्त जनपदों में औषधियों की प्राप्ति, चिकित्सालयों में औषधि का वितरण उपभोग एवं उपलब्ध स्टाक की सूचना मेडिसिन मैनेजमेण्ट साफ्टवेयर के माध्यम से आॅनलाइन आम नागरिकों को उपलब्ध करायी जाये।

मुख्यमंत्री ने यह निर्देश आज शास्त्री भवन में आयुष विभाग के प्रस्तुतिकरण के समय दिये। उन्होंने कहा कि आगामी 100 दिन में राजकीय आयुर्वेदिक काॅलेज एवं चिकित्सालय वाराणसी के नवीन चिकित्सालय भवन, प्रशासनिक भवन एवं महिला छात्रावास भवन को जनोपयोगी बनाया जाये। उन्होंने राजकीय नेशनल होम्योपैथिक मेडिकल काॅलेज एवं अस्पताल लखनऊ के समीप ही प्रदेश के प्रथम आदर्श हर्बल गार्डेन की स्थापना कराये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने प्रदेश में औषधीय पौधों की खेती को प्रोत्साहित करने हेतु औषधीय पौधों की फसल का, अन्य फसलों की भांति राजस्व अभिलेखों में अभिलेखीकरण भी कराये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में राजकीय एवं निजी क्षेत्रों में संचालित समस्त आयुष मेडिकल काॅलेजों के शिक्षा सत्रों के नियामन हेतु आयुष विश्वविद्यालय की स्थापना कराये जाने हेतु विस्तृत कार्य योजना यथाशीघ्र प्रस्तुत की जाये।

श्री योगी आदित्यनाथ ने स्वच्छ गंगा अभियान के अन्तर्गत राजकीय आयुर्वेदिक महाविद्यालय एवं चिकित्सालय वाराणसी एवं राजकीय यूनानी मेडिकल काॅलेज इलाहाबाद में औषधीय पादप उद्यान विकसित किये जाने हेतु व्यापक कार्य योजना बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने प्रमुख निर्माणाधीन परियोजनाओं की समीक्षा करते हुये निर्देश दिये कि राजकीय आयुर्वेदिक काॅलेज लखनऊ में नवीन चिकित्सालय भवन का निर्माण एवं राजकीय आयुर्वेदिक काॅलेज अतर्रा, बांदा में प्रशासनिक भवन एवं छात्रावासों आदि का निर्माण, राजकीय होम्योपैथिक मेडिकल काॅलेज गोरखपुर का निर्माण, राजकीय नेशनल होम्योपैथिक मेडिकल काॅलेज लखनऊ में माॅडल हर्बल गार्डेन का निर्माण 31 मार्च, 2018 तक तथा राजकीय आयुर्वेदिक काॅलेज लखनऊ में नवीन छात्रावास भवन का निर्माण 31 मार्च, 2019, राजकीय टी0टी0 यूनानी काॅलेज लखनऊ में 100 शैय्यायुक्त नवीन चिकित्सालय भवन का निर्माण 30 जून, 2017 एवं छात्राओं के लिये 200 शैय्यायुक्त छात्रावास का निर्माण 31 दिसम्बर, 2017 तक पूर्ण कराया जाये।

मुख्यमंत्री ने राजकीय होम्योपैथिक मेडिकल काॅलेज अलीगढ़ का निर्माण आगामी 30 जून, 2017 एवं राजकीय होम्योपैथिक मेडिकल काॅलेज आजमगढ़ में अन्तः रोगी भवन, लैब भवन, प्रशासनिक भवन व बाउण्ड्री वाल का निर्माण, जनपद रायबरेली, लखनऊ, उन्नाव, पीलीभीत व बरेली में कुल 10 आयुर्वेदिक (04 शैय्या) डिस्पेंसरी का सुदृढ़ीकरण, लखनऊ एवं रायबरेली में 02 आयुर्वेदिक (15/25 शैय्या) चिकित्सालयों का सुदृढ़ीकरण, 42 राजकीय होम्योपैथिक डिस्पेंसरीज का सुदृढ़ीकरण, राजकीय लाल बहादुर शास्त्री होम्योपैथिक मेडिकल काॅलेज इलाहाबाद का सुदृढ़ीकरण 31 दिसम्बर, 2017 तक निर्धारित मानक एवं गुणवत्ता के साथ कराने के निर्देश दिये।