मुद्रा योजना से युवाओं को मिल रहे हैं स्वरोजगार के अवसर

इस ख़बर को शेयर करें:

मुद्रा योजना बेरोजगार युवाओं और खासतौर पर अपना काम शुरू करने की चाहत रखने वाले युवाओं के लिये संजीवनी बन कर सामने आई है।और अब सरकार देश के अलग अलग भागों में मुद्रा प्रमोशन कैंपस का आयोजन कर रोज़गार के बेहतरीन विकल्प मुहैया कराने के लिए कमर कस रही है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकता वाली योजनाओं के तहत मुद्रा योजना को अच्छी खासी कामयाबी हासिल हो रही है। एक तरफ युवा कुशल बन रहे हैं तो दूसरी तरफ युवाओं के रोज़गार को खड़ा करने के लिए, उन्हे वित्तीय सहायता पहुंचाने के लिए मुद्रा योजना बाहें फैलाए खड़ी है।

मुद्रा योजना बेरोजगार युवाओं और खासतौर पर अपना काम शुरू करने की चाहत रखने वाले युवाओं के लिये संजीवनी बन कर सामने आई है।और अब सरकार देश के अलग अलग भागों में मुद्रा प्रमोशन कैंपस का आयोजन कर रोज़गार के बेहतरीन विकल्प मुहैया कराने के लिए कमर कस रही है।

युवाओं को स्वरोजगार स्थापित कराने में मदद करने और उनका आर्थिक उन्नयन करने के उद्देश्य से केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की शुरुआत की गई है। इस योजना के तहत छोटे और मध्यम व्यवसायियों को सरलता से लोन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। लोगों में इस योजना की पहुंच बढ़ाने और ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस योजना की जानकारी देने के उद्देश्य से देशभर में 27 सितंबर से 17 अक्टूबर तक विभिन्न मुद्रा कैंप आयोजित किए जा रहे हैं ।

आर्थिक राजधनी मुंबई में आयोजित मुद्रा कैंप में केंद्रीय मंत्री वी.के सिंह ने कहा केंद्र सरकार की ओर से चलाई गई प्रधानमंत्री मुद्रा योजना महिलाओं के लिए वरदान साबित हो रही है और इसी योजना से हजारों की संख्या में महिलाएं आत्मनिर्भर बन रही हैं और आर्थिक दृष्टि से अपने घर में सहयोग भी कर रही हैं।

इस कड़ी में भोपाल में भी मुद्रा कैंप आयोजित किया गया। शिविर का शुभारंभ प्रदेश के वित्त मंत्री जयंत मलैया ने किया इस अवसर पर सांसद आलोक संजर औऱ सहकारिता राज्य मंत्री विश्वास सारंग सहित कई अधिकारी उपस्थित रहे। शिविर में मुद्रा योजना- भीम एप- और डिजिटल ट्रांजेक्शन के बारे में जानकारी दी गई साथ ही 4 हजार नए हितग्राहियों को लोन के चेक भी वितरित किए गए। मध्यप्रदेश में अबतक मुद्रा योजना के तहत 60 लाख से ज्यादा लोगों को लोन उपलब्ध कराया जा चुका है जिससे न केवल वे स्वयं का रोजगार स्थापित कर पाए बल्कि अन्य लोगों को भी रोजगार देने वाले बन पा रहे हैं।

केंद्र और राज्य सरकार का लक्ष्य ज्यादा से ज्यादा लोगों को स्वरोजगार स्थापित करने के लिए प्रेरित करना है जिससे स्वाबलंबी भारत का निर्माण हो सके। वहीं जिन हितग्राहियों को चेक वितरित किए गए उन्होंने योजना को लाभप्रद बताते हुए कहा कि वे और लोगों को भी इस योजना का लाभ लेने के लिए प्रेरित करेंगे।